एक शातिर ठग फर्जी पुलिस बनकर ज्वेलरी डीलर से चेकिंग के नाम पर ज्वेलरी ठग कर ले गया पुलिस ने बड़ी मशक्कत के साथ किया गिरफ्तार पुलिस की बड़ी कामयाबी पुलिस की हो रही है भूरी भूरी प्रशंसा

0
707

पुलिस के द्वारा हिंदी मैगजीन के मीडिया प्रभारी नरेंद्र कुमार राठौर देहरादून उत्तराखंड

*कोतवाली नगर , देहरादून।*
———————- ———————–
*घंटाघर पर दिन दहाड़े एक ज्वैलरी डीलर से फर्जी पुलिस बनकर चैकिंग के नाम पर ज्वैलरी ठग कर ले जाने वाले ईरानी गैंग के ठगों में से एक शातिर ठग मय लाखो की ज्वैलरी के साथ सोलापुर महाराष्ट्र से गिरफ्तार*
———————————————- दिनाँक 13 अक्टूबर 2018 को श्री मितुष रस्तोगी पुत्र श्री विजय कुमार रस्तोगी नि0 32/33 शाह खाकी नज़दीक बुढ़ाना गेट मेरठ ने धारा चौकी पर लिखित सूचना दी कि यह आर्डर पर ज्वैलरी बनाने का काम करते हैं, कल यह अपने पिता के साथ ज्वैलरी डिलीवर करने देहरादून आये थे , जब घंटाघर इलाहाबाद बैंक के पास पहुचे तो एक व्यक्ति सादे वस्त्रो में आया और कहने लगा कि हम पुलिस है, यहां चैकिंग चल रही है, हमारे साहब उधर खड़े हैं चलो तुम्हे बुला रहे हैं, तथा उधर से जिनको वह साहब बता रहा था, उसने भी इशारा करके बुलाया, तब ये लोग उसके पास चले गए, वहां पर जाकर यह 4-5 लोग हो गए, और चैकिंग करने लगे, हमने बैग की चैन को खोलकर चैकिंग के लिए कहा उनमे से एक बैग चेक करने लगा तथा और लोगो ने हमे बातों में लगा लिया जो बैग चेक कर रहा था, उसने उस बैग में रखा एक छोटा पर्स जिसमे सोने तथा डायमंड की अंगूठी, टॉप्स, कड़े, व पेंडल थे जिसको उसने धीरे से पीछे रख लिया और वह भीड़ का फायदा उठाकर भाग गया, जब मैंने शोर मचाया तो बाकी के लोग भी इधर उधर भाग गए, इस सूचना पर चौकी धारा पर उचित धाराओ में अभियोग पंजीकृत किया गया, तथा मोके पर जाकर पीड़ित व्यक्ति से घटना के संबंध में विस्तृत जानकारी ली गयी, तथा घटना स्थल के आस पास दुकानदारों से भी उक्त घटना के सम्बंध में जानकारी ली गयी, तथा प्राप्त हुलिए तथा बदमाशो के दो मो0सा0 पर भागना प्रकाश में आने पर तत्काल सिटी कंट्रोल को उक्त हुलिए के व्यक्तियों की चैकिंग हेतु सूचना फ़्लैश की गई, तथा घटना के संबंध में उच्च अधिकारी गणो को अवगत कराया गया, जिस पर उक्त घटना को श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया द्वारा अति गंभीरता से लेते हुए उक्त घटना का शीघ्र अनावरण कर शत प्रतिशत बरामदगी हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए थे, जिसके अनुपालन में श्रीमान पुलिस अधीक्षक नगर, व co सिटी महोदय के निकट पर्यवेक्षण में प्रभारी निरीक्षक के निर्देशन में व0उप0निरी0 के नेतृत्व में थाना स्तर पर एक टीम का गठन किया गया, तथा sog प्रभारी देहरादून के नेतृत्व में भी एक टीम का गठन किया गया, गठित टीमो द्वारा घटना से जुड़े समस्त लोगो तथा चश्मदीद व्यक्तियों से गहनता से पूछताछ की गई तथा एक टीम द्वारा घटना स्थल से अभियुक्त गणो के सिटी से बाहर निकलने तक तथा हरिद्वार व नजीबाबाद तक अभियुक्तो निकलने की लगभग 200 सीसीटीवी चेक किये जिससे अभियुक्तो के हुलिए की जानकारी मिली, जिसका प्रचार प्रसार किया।गया तथा पुलिस सूत्रों को भी फोटोग्राफ प्रषित किये गए, सीसीटीवी futtage से जानकारी मिली कि घटना के बाद 4 अभियुक्त अपनी अपनी दो मोटर साईकल पर सबार होकर मुख्य सड़क पर ना जाकर बाहर निकलने के लिए गलियों का रास्ता चुना गया तथा हर्रावाला के पास पूर्व से इनके पास एक बड़ी गाड़ी xuv जिसमें दो व्यक्ति वैठे थे, जैसे ही यह गाड़ी के पास पहुचे वहां पर मोटर साईकल चलाने वाले चारो व्यक्ति xuv गाड़ी में बैठ जाते हैं, तथा जो दो गाड़ी में बैठे होते है, वह दोनों मोटर साईकल पर सबार होकर आगे हरिद्वार फिर नजीबाबाद की और चले जाते हैं, सूत्रों से जानकारी मिली कि उक्त प्रकार की मोडस ऑपरेंडी से ईरानी गैंग के लोग क्राइम करते हैं, ईरानी गैंग्स की कुंडली खगाली गयी, तथा देश भर में जहाँ जहाँ ईरानी लोग रहते हैं, वहां की पुलिस तथा लोकल इंफॉर्मर्स से संपर्क स्थापित कर futtage से प्राप्त फ़ोटो प्रषित किये गए। तमाम पुलिस टेक्टिक्स के बाद पुलिस सूत्रों से जानकारी मिली कि जिन लोगो ने उक्त घटना को अंजाम दिया है, यह मुख्य रूप से जिला बीदर कर्नाटक के मूल निवासी हैं, इस सूचना को क्रॉस वेरिफाई कर उच्चाधिकारी गणो को अवगत कराया गया तथा तत्काल उक्त गैंग के पर्दाफास कर गिरफ्तारी हेतु
व0उप0निरी0 अशोक राठौड़ के नेतृत्व में एक टीम को रवाना किया गया, यहां प्रकाश में आया कि उक्त गैंग का मुख्य लीडर जहीर है जो कि परली जिला बीड महाराष्ट्र का रहने वाला है, तथा यह लोग सम्पूर्ण भारत मे इसी प्रकार की घटनाओं को अंजाम देते हैं, तथा अपने घरों पर बहुत कम रहते हैं तथा अत्यंत शातिर प्रवत्ति के है, टीम द्वारा उक्त लोगो के बारे में गुप्त रूप से जानकारी हासिल की गई तथा धैर्य से अपनी उपस्थिति को छुपाते हुए उक्त घटना में जिन 6 लोगो जिसमे जहीर तथा तालिब उर्फ सन्नाटा जो कि परली महाराष्ट्र के रहने वाले हैं, तथा अमजद, जाफर, मोहसिन ये तीनो भाई है, तथा इकवाल ये चारों बीदर कर्नाटका के रहने वाले हैं, इन्ही लोगो ने देहरादून में घटना को अंजाम दिया था, के बारे में जनकारी हासिल की गई, तथा इनकी गिरफ्तारी के लिए लोकल पुलिस सूत्रों को लगाया गया, इसी क्रम में लगातार गैर प्रान्त में करीब 15 दिन की कड़ी मशक्कत के बाद सूचना प्राप्त हुई कि एक अभियुक्त माल के साथ आज सोलापुर में अभियुक्त जहीर से मिलने आने वाला है, इस सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए, बीदर से आने वाले रास्ते पर पुलिस द्वारा सादे वस्त्रो में नाकाबंदी की गई, तथा मुखविर के इशारे पर एक अभियुक्त जाफर को दिनाँक 9 दिसंबर 2018 को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गई इसके कब्जे से 10 सोने की हीराजड़ी अंगूठी बरामद हुई है, अभियुक्त को थाना जोड़ भाबी पेठ सोलापुर महाराष्ट्र में दाखिल कर मान0 न्यायालय सोलापुर से ट्रांजिट रिमांड पर देहरादून लाकर संबंधित मान0 न्यायालय पेश किया जा रहा है। तथा अन्य अभियुक्तो की गिरफ्तारी हेतु टीम द्वारा लगातार प्रयास जारी है, जल्द ही अन्य अभियुक्तो की गिरफ्तारी भी कर ली जाएगी।

*नाम पता गिरफ्तार अभियुक्त*
——————————————–
जाफर अली पुत्र परवेज अली नि0 ईरानी मोहल्ला, बदरुद्दीन कॉलोनी छिदरी रोड, बीदर कर्नाटका। 32 वर्ष।
*वांछित अभियुक्त*
—————————
1- जहीर अली पुत्र शेखू अली नि0 tps रेलवे कॉलोनी, ईरानी बस्ती, थाना संभाजीनगर, परली महाराष्ट्र।
*गैंग लीडर*
2- अमजद अली पुत्र परवेज अली नि0 ईरानी मोहल्ला, बदरुद्दीन कॉलोनी छिदरी रोड, बीदर कर्नाटका।
3- मोहसिन अली पुत्र परवेज अली नि0 ईरानी मोहल्ला, बदरुद्दीन कॉलोनी छिदरी रोड, बीदर कर्नाटका।
4- इकवाल पुत्र बरकत अली नि0 ईरानी मोहल्ला, बदरुद्दीन कॉलोनी छिदरी रोड, बीदर कर्नाटका।
5- तालिब उर्फ सन्नाटा पुत्र हुसैन जान शाह नि0 ईरानी गली शिवजी नगर थाना संभाजी नगर परली महाराष्ट्र।

*बरामदगी का विवरण*
——————————-
सोने की हीराजडित 10 अंगूठियां कीमती करीब 6,00,000 रुपये ।

पूछताछ पर अभियुक्त जाफर ने बताया कि वह अनपढ़ है, चोरी के मोबाइल बेचने का काम करता है, उसके दो भाई अमजद व मोसिन है, इकवाल इनके मोहल्ले का ही रहने वाला है, इकवाल, जहीर अली जो कि परली महाराष्ट्र का रहने वाला है, उसको जानता है, 5 नवंबर को इकवाल ने बताया कि काम पर चलना है, तब हम तीनों भाई व इकवाल परली पहुचे यहां पर जहीर तथा तालिब उर्फ सन्नाटा मिले, अगले दिन प्लानिंग के हिसाब से एक xuv गाड़ी तथा 2 यूनिकॉर्न बाइक जिनकी व्यबस्था जहीर ने की थी को लेकर दिल्ली रोड से होते हुए राजस्थान पहुचे यहा पर पहली घटना की, उसके बाद हरियाणा रोहतक में दो घटनाएं की, फिर देहरादून में एक घटना की उसके बाद एक घटना कानपुर में की थी, दिनाँक 16 नवंबर को हम परली बापस पहुच गए थे, परली में जहीर ने मुझे ये 10 अंगूठी देकर कहा था कि अभी रख लो बाकी हिसाब बाद में कर लेंगे, और जो भी घटनाओ में समान मिला था वह जहीर के पास ही था। घटना के वक़्त हम कभी भी होटल में नही रुकते हाईवे पर जो ढाबे होते है, उन पर ही चारपाई लेकर रात को रुक जाते हैं, देहरादून की घटना से एक दिन पहले हम सहारनपुर में हाईवे पर ढाबे पर रुके थे, अगले दिन देहरादून पहुचे यहां हरीद्वार हाइवे पर शहर निकल कर मुझे और मोहसिन को xuv गाड़ी में छोड़ दिया था, तथा एक बाइक पर तालिब उर्फ सन्नाटा व जहीर तथा दूसरी बाइक पर इकवाल और अमजद सबार होकर शहर की और चले गए थे, वहाँ उन्होंने पहले ज्वैलरी शॉप पर जाकर हाथ की सफाई दिखाकर ज्वैलरी ठगने की कोशिश की पर कामयाब नही हो सके तो उसी समय ज्वैलरी शॉप पर ही एक डीलर को ज्वैलरी लेते व देते हुए देखा था वही से उसके पीछे लग गए, और घंटाघर पर जैसे ही उसने रोड पार किया पीछे से जहीर उसको यह कहते हुए की रुको तुम्हे हमारे बड़े साहब बुला रहे हैं हम पुलिस है, चैकिंग चल रही है, उसको यह कहकर इलाहाबाद बैंक के पास ले आये यहां चारो ने उसको घेरकर बातों में लगाया और यह कहकर की तुम्हारे बैग में बारूद है, चैकिंग कराओ उसीसे चैन खुलवाकर चैकिंग के बहाने बैग में रखा छोटा ज्वैलरी का पैकेट धीरे से निकालकर पीछे वाले को दे दिया वह एकदम बहा से निकल गया, जब तक पीड़ित को पता चलता तब तक दूसरे लोग भी एक दम वहा से भाग गए, उसके बाद यह करीब आधे घंटे में यह हमारे पास पहुचे यहां पर दोनों बइको को मुझे व मोहसिन को दे दिया और खुद चारो xuv गाड़ी मे बैठकर शहर से बाहर निकल गए, उसके बाद फिर एक घटना कानपुर में की थी। घटना से एक दिन पहले और घटना बाले दिन उसी शहर में नही रुकते हैं, 10 – 11 बजे शहर में पहुचते है, एक या दो घंटे में घटना करके वहा से बइको से निकलकर शहर से बाहर खड़ी xuv में घटना करने वाले चारो तथा हम दोनों उन बइको पर निकल जाते हैं, इस प्रकार हम पुलिस चैकिंग से बच जाते हैं। दिनाँक 9 दिसंबर 2018 को जहीर ने मुझे सोलापुर में ये कहकर बुलाया था कि हीरे की अंगूठियों को बेचना है लेकर आ जाओ तथा और भी हिसाब कर लेंगे। किन्तु में पकड़ा गया। 12 साल की उम्र से कोरेक्स पी रहा हूं।
*उल्लेखनीय हैं कि इसके द्वारा यह भी बताया गया कि हाथ की सफाई इनका पुश्तेनी काम है, इनके पूर्वज भी इसी प्रकार से ठगी करते थे, इनके पूर्वज मूल रूप से ईरान से आये हुए थे जो भारत मे बस गए थे, वर्तमान में इनकी समपूर्ण भारत मे मुख्य रूप से मध्य प्रदेश, हैदराबाद, आंध्रप्रदेश, पुणे, मुम्बई महाराष्ट्र, देवबन्द, गाज़ियाबाद उत्तरप्रदेश, दिल्ली आदि स्थानों पर बसे हुए हैं, इनकी सभी जगहा अलग अलग बस्तियां है, संगठित रूप से रहते हैं, तथा एक दूसरे को अपराध करने में मदद करते है। उक्त गैंग द्वारा पहले ज्वैलरी शॉप पर जाकर ज्वैलरी खरीदने के बहाने समान निकलवाते है, और मौका देखकर उसमे से कुछ आइटम्स हटा लेते हैं, इसी प्रकार पुलिस बनकर चैकिंग के बहाने बुजुर्ग महिलाओ आदि को यह कहकर की हम क्राइम ब्रांच से है आगे चैकिंग चल रही है, आप अपना कीमती सामान एक कागज में रख कर ले कर जाओ तभी उस पैकेट को पहले से अपने पास रखे आर्टिफीसियल पैकेट से सफाई से बदल देते हैं, इसी प्रकार पुलिस चैकिंग के बहाने से ज्वैलरी डीलर से ठगी कर लाखो की ज्वैलरी ठग कर ले गए थे। यह एक अन्तर्राजिय ठग गैंग है, जो सम्पूर्ण देश के बिभिन्न स्थानों पर ठगी को अंजाम देते हैं। इनका मुख्य लीडर जहीर अली है, इसके बिरुद्ध कई अभियोग पंजीकृत है, तथा अन्य के बिरुद्ध भी अभियोग पंजीकृत है, संबंधित थानों से आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।*
*आपराधिक इतिहास अभि0 जहीर अली*
———————————————-
1-Cr no 209/2017 u/s
302 34 ipc
Police station Sambhagnagar parlie beed
2-Cr no 11/2018 u/s 224,225,353,332,143,148,149,506ipc ps sambhaji nagar

*पुलिस टीम*
———————
Co सिटी श्री चंदमोहन सिंह
Insp एस0एस0 नेगी प्रभारी निरीक्षक
व0उ0निरी0 अशोक राठौड़
उप0निरी0 कुलदीप पंत I/c चौकी धारा
उप0निरी0 नरोत्तम बिष्ट I/cचौकी लक्मनचौक
उप0निरी0 प्रदीप रावत I/c चौकी लक्खीबाग
उप0 निरी0 मोहन सिंह
उप0निरी0 प्रधुम्न नेगी
कानि0 अरशद अली
कानि0 लोकेंद्र उनियाल
कानि0 विनोद बचकोटी
कानि0 सुमन दास
कानि0 रविन्द्र टम्टा
*Sog टीम*
Insp ऐश्वर्यपाल प्रभारी sog
कानि0 देवेंद्र कुमार
कानि0 प्रमोद कुमार
कानि0 आशीष शर्मा
कानि0 मोनिका

श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया द्वारा उक्त घटना का सफल अनावरण करने बाली टीम के उत्साहवर्धन हेतु नगद 2500 रुपये पसरितोषिक प्रदान करने की घोषणा की गई है।*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here