देहरादून,राज्य सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार की सोचने समझने की शक्ति खत्म हो गई है।प्रीतम सिंह प्रदेश अध्यक्ष कोंग्रेस

0
501

पिंजरे में कैद राज्य सरकार की सोचने, समझने तथा देखने की शक्ति हुई क्षीण। बसों का किराया बढ़ा कर जनता के घावों पर किया नमक छिड़कने का काम:- प्रीतम सिंह
देहरादून 20 जून:कांग्रेस ने राज्य सरकार द्वारा बसों के किराए में बेतहाशा बढ़ोतरी किए जाने का विरोध करते हुए इसे गरीब जनता का शोषण बताया है।बसों के किराए में भरी वृद्धि किए जाने पर बयान जारी करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह ने कहा कि कोरोना महामारी की मार झेल रही जनता पर भाजपा सरकारों द्वारा लगातार एक के बाद एक महंगाई का बोझ डाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक ओर रोज रोज पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस सिलेंडर के दाम बढ़ाए जा रहे हैं वहीं राज्य की भाजपा सरकार द्वारा बसों के किराए में बेतहाशा वृद्धि कर गरीब जनता का शोषण करने का काम किया है। प्रीतम सिंह ने कहा कि पहले से कोरोना महामारी और महंगाई की मार झेल रही जनता पर बसों के किराए के रूप में एक और बोझ डाल कर भाजपा सरकार ने साबित कर दिया है कि उसे गरीब, मजदूर, बेरोजगार की कोई चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि आज देश का नौजवान घर पर बेरोजगार बैठा है,छोटा व्यापारी काम धंधा बंद होने के कारण बेरोजगार हो गया है ऐसे में सरकार के इस निर्णय पर तरस आता है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राज्य सरकार ने जिस तरह से डीलक्स बसों के किराए में हवाई जहाज के किराए के बराबर वृद्धि की है उससे कोईभी यात्री बस की जगह हवाई जहाज से यात्रा करना पसंद करेगा। उन्होंने प्रदेश सरकार को पिजरे में कैद सरकार बताते हुए कहा कि राज्य सरकार की सोच और समझ दोनों ख़तम हो चुकी हैं तथा सरकार संवेदनहीन हो चुकी है। कोरोना महामारी की मार झेल रही जनता के लिए सरकार ने बसों का किराया बढ़ाने का फैसला कर जनता के घावों पर नमक छिड़कने का काम किया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार की बुद्धि शुद्धि के लिए यज्ञ की आवश्यकता है।उन्होंने कहा कि बसों का बढ़ा हुआ किराया तुरंत वापस लिया जाए तथा केंद्र सरकार द्वारा जो 20 लाख रुपए का पैकेज दिया गया है उससे बेरोजगार हो चुके टैक्सी, मैक्सी चालकों तथा बसो का किराया दिया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here