देहरादून, अंतर्राजीय वाहन चोर गिरोह का एक सदस्य पुलिस ने किया गिरफ्तार, अभियुक्त के कब्जे से चोरी के 09 चार पहिया वाहन बरामद

0
187

देहरादून

अंतर्राजीय वाहन चोर गिरोह का एक सदस्य गिरफ्तार, अभियुक्त के कब्जे से चोरी के 09 चार पहिया वाहन बरामद

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद देहरादून के आदेशानुसार पुलिस अधीक्षक नगर महोदय व क्षेत्राधिकारी एस0ओ0जी0/ मसूरी महोदय के निकट पर्यवेक्षण में एस0ओ0जी0 प्रभारी को सूचना प्राप्त हुई की एक अंतरराज्यीय चोर गिरोह का सदस्य देहरादून के आसपास के क्षेत्रों में चोरी की गाड़ियों को हेर फेर कर बेच रहा है,

उसके पास अलग- अलग स्थानों से चोरी के वाहन आते हैं, जिन्हें वह पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त गाडियों के चेचिस नम्बर, इंजन नम्बर व नम्बर प्लेट लगाकर अन्य लोगों को बेच देता है तथा उसके पास अभी भी बहुत सारी गाड़ियां हैं, जिन्हे वह बेचने की फिराक में है। इस सूचना पर प्रभारी एस0ओ0जी0 द्वारा उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया, जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय के आदेशानुसार एस0ओ0जी0 तथा कोतवाली कैन्ट की संयुक्त टीम गठित की गयी तथा टीम द्वारा उक्त गिरोह की तलाश हेतु मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया।

इसी बीच मुखबिर के माध्यम से टीम को जानकारी प्राप्त हुयी कि उक्त गिरोह के सदस्यो द्वारा चोरी की गाडियों को देहरादून में माल रोड पर दून स्कूल के सामने ग्राउण्ड में खड़ा किया गया है तथा गिरोह का एक सदस्य उक्त वाहनो को बेचने की फिराक में आज देहरादून आ रहा है। इस सूचना पर मुखबिर को साथ लेकर पुलिस टीम बिदाल पुल के पास पहुँची तथा उक्त स्थान पर अपना छुपाव करते हुये अभियुक्त के आने का इन्तजार करने लगी। कुछ समय पश्चात एक व्यक्ति, जो माल रोड की तरफ जा रहा था, को देखकर मुखबिर द्वारा उस की पहचान करते हुये बताया कि यही वह व्यक्ति है,

जिस पर पुलिस टीम अभियुक्त का पीछा करते हुए दून स्कूल के गेट के सामने के मैदान में पहुंची तो वहाँ अभियुक्त द्वारा खाली मैदान में खड़ी गाड़ियों के पास पहुंचकर उक्त गाड़ियों का चैक किया जा रहा था, तभी पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त को मौके पर पकड़ लिया गया।

मौके पर अभियुक्त से उक्त वाहनो के सम्बन्ध में पूछताछ करने पर वह कोई सन्तुष्ट जवाब नही दे पाया जिस पर अभियुक्त से कड़ाई से पूछने पर उसके द्वारा द्वारा बताया गया कि उसके द्वारा यह गाडिया चोरी करने के उपरान्त यहाँ लाकर खड़ी की गयी हैं । कुछ दिन पहले उसको हरियाणा पुलिस ने ऐसी ही चोरियों की गाड़ियों के साथ पकड़ा था, अभी कुछ दिन पहले वह जमानत पर छूटकर आया है। उसने पुलिस के डर से इन गाड़ियों को यहाँ लाकर छिपा दिया था, आज वह इन वाहनो को देखने के लिए देहरादून आया था कि पुलिस द्वारा उसे पकड़ लिया गया। उसके बाद अभियुक्त से गाड़ियों की चाबी तलब की गयी तो उसकी निशानदेही पर उक्त सभी 09 गाड़ियों की चाबी बरामद गई और गाड़ियों के चेचिस नम्बर व इंजन नम्बर की गहनता से चैक करने पर गाड़ियों के इंजन नंबर व चेसिस नंबर में धोखधड़ी के आशय से हेर-फेर किया जाना प्रतीत हुआ तथा अभियुक्त द्वारा भी बताया गया था कि चेसिस नम्बर व इंजन नम्बर में हेर फेर की गयी है,

तब अभियुक्त को उक्त गाडियो के चेचिस नम्बर व इंजन नम्बर के हेर फेर के सम्बन्ध में मौके से कल दिनांक 01-09-2021 को समय 21.45 बजे गिरफ्तार किया गया तथा अभियुक्त के विरूद्ध थाना कैण्ट में मु0अ0सं0 241/21 धारा 420, 467, 468, 471 भादवि में अभियोग पंजीकृत कराया गया । जिसे आज मा० न्यायालय के समक्ष पेश किया जायेगा।

*पूछताछ का विवरण :-*

विस्तृत पूछताछ में अभियुक्त द्वारा बताया गया कि हम लोग कबाड़ियों से पुरानी गाड़ी / एक्सीडेंटल गाड़ी के चेचिस कागज व बॉडी खरीद लेते हैं और उनके कागज आरसी आदि अपने पास रख लेते हैं, मेरा कई अन्य वाहन चोरों से भी संपर्क है, जिनको मैं उन गाड़ियों के बारे में बता देता हूँ फिर उक्त चोर उसी मॉडल की गाड़ी को चोरी कर ले आता है। हम चोरी की गाड़ी पर एक्सीडेंटल गाडी का चेसिस व इंजन नबर खुदवाकर उसको एक्सीडेंटल गाड़ी के कागजों के साथ बेच देते है। ज्यादातर हम चोरी की गाड़ीयों को एक राज्य से दूसरे राज्य में बेचते है, मेरे पास अनेक राज्यों से खत्म (एक्सीडेंट में फुल डैमेज) गाड़ियों के कागज़ आते है, जो मैं कबाडियों आदि से लेता हूँ । इसके अलावा हम फाइनेंस कम्पनियों के ऐजेन्ट से मिली भगत करके उनसे किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर भी गाड़ियां फाइनेस करवा लेते हैं, हम उस व्यक्ति की फर्जी ITR बनवाते है और डाउन पेमेंट करके गाड़ी खरीद लेते हैं, उसके बाद उस गाड़ी पर पुरानी गाड़ी के कागज लगाकर दूसरे राज्य में बेच देते हैं । कई बार बिना नंबर बदले भी उस फाइनेंस गाड़ी को दूसरे राज्य में परिचित व्यक्ति को बेच देते हैं और जिसके नाम गाड़ी फाइनेन्स की जाती है, उसको कुछ दिन के लिए दूसरी जगह भेज देते हैं। इस काम में मेरा साथ मुज्जफरनगर निवासी शमशाद व देहरादून डोईवाला निवासी हैदर देते हैं। मुनाफे का जो पैसा मिलता है, उसे हम आपस में बॉट लेते हैं, इस प्रकार की चोरियों की गाड़ियों का काम हम कई वर्षों से कर रहे हैं।

अभियुक्त
1- प्रणीत पाल पुत्र नरेन्द्र पाल नि 0 336 चौक बाजार, थाना डोईवाला , जनपद देहरादून, उम्र 33 वर्ष।
वॉछित अभियुक्त
1- शमशाद पुत्र नामालूम नि0 ग्राम कुकडा , मुज्जफरनगर उ0प्र0
2 -हैदर पुत्र इकबाल नि0- रेश्ममाजरी, जीवनवाला, देहरादून ।

अभियुक्तगणों के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है ।

बरामदगी
1-टाटा कम्पनी की 01 जेस्ट कार ।
2- मारूति की 05 स्विफ्ट कार ।
3- मारुति की 01 डिजायर कार ।
4- टोयेटा की 01 ग्लैन्जा कार ।
5- महेन्द्रा की 01 बोलेरों कैम्पर ।
*कुल बरामद 09 कार*

*पर्यवेक्षण अधिकारी –*

1-श्रीमती सरिता डोबाल , पुलिस अधीक्षक नगर देहरादून ,2- प्रकाश चन्द्र आर्य , पुलिस अधीक्षक अपराध देहरादून, 3-श्री नरेन्द्र पन्त , क्षेत्राधिकारी मसूरी / SOG देहरादून
कोतवाली कैण्ट, देहरादून
1- ऐश्वर्य पाल, प्रभारी निरीक्षक कैन्ट देहरादून, 2 व0उ0नि0 सुनील नेगी
3-उ0नि0 प्रवीन सैनी, प्रभारी चौकी बिदाल, 4- का0 सोहन, थाना कैंट

एसओजी टीम:
1- नदीम अतहर, प्रभारी निरीक्षक , एस0ओ0जी0 देहरादून , 2- उ0नि0 दीपक धारीवाल , SOG देहरादून, 3-का0 ललित, देवेन्द्र, अरशद , पंकज, किरण कुमार,अशीष शर्मा, अमित, म0का0 मोनिका, का0 चालक विपिन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here