देहरादून संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन तत्वाधान में आयोजित रक्तदान शिविर में 125 श्रद्धालुओं ने रक्त दान किया

0
112

देहरादून संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन तत्वाधान में आयोजित रक्तदान शिविर में 125 श्रद्धालुओं ने रक्त दान किया

रक्त नालियों में नही नाड़ियो में बहना चाहिये ।

देहरादून 18 जुलाई 2021 संत निरंकारी मिशन ब्रांच देहरादून में सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज की प्रेरणा से मानवता की सेवा हेतु विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। जिसमे मुख्य अतिथि
मेयर सुनील उनियाल गामा ने विधिवत रिबन काटकर


रक्तदान शिविर का उद्घाटन किया। जोनल इंचार्ज हरभजन सिंह ,
नरेश विरमानी, मंजीत सिंह संचालक की उपस्थिति में मेयर सुनील उनियाल गामा ने रक्तदाताओं से मुलाकात कर उनका उत्साह वर्धन भी किया, वहीं रक्तदान करने आये संत निरंकारी मिशन के सेवादल के अनुयायियों के इस जज्बे को बहुत सराहा। मुख्य अतिथी सुनील उनियाल गामा ने कहा कि संत निरंकारी मिशन मानवता की सेवा के लिए सदैव अग्रणी रहा है। कोरोना काल मे जोनल इंचार्ज हरभजन सिंह जी के मार्गदर्शन में समय समय पर उत्तराखंड के कई स्थानों पर रक्तदान एवम सफाई अभियान चलाया है।

रक्तदान शिविर में प्रातः 09 बजे से रक्तदान के लिए निरंकारी संतो की लाइने लगनी शुरू हो गई। रक्तदान के लिये 185 मिशन के अनुयायियों ने रजिस्ट्रेशन करावाया। जिसमें से 125 महात्मा ही रक्तदान कर सके। लगभग 60 महात्मा रक्तदान से वंचीत रह गये। संत निरंकारी मिशन के सेवादल, SNCF तथा साध संगत के संतो ने मिलकर रक्तदान शिविर में भाग लिया। जिसमें 125 यूनिट ब्लड इंद्रेश हॉस्पिटल को दिया गया।


जोनल इंचार्ज हरभजन सिंह ने कहा कि 1 युनिट दिये गये ब्लड से चार व्यक्तियों को जीवनदान दिया जा सकता है। रक्तदान से शरीर में कोई कमी नही होती। 18 से 65 वर्ष के स्वस्थ्य व्यक्ति हर 3 महीन के अंतराल के बाद रक्तदान कर सकता है।
क्षेत्रीय संचालक दिलबर पंवार ने कहा कि रक्त दान करने से हमारे शरीर में किसी भी प्रकार की कोई कमी नही आती है। रक्तदान केवल मनुष्य जीवन में ही किया जा सकता है। रक्तदान द्वारा मानवता को बढावा दिया जाता है। रक्तदान शिविर में कोविड़ नियमों का पूणतया पालन किया गया। समस्त ज्ञान प्रचारक, संचालक, सेवादल, SNCF व साध संगत के अनुयायियों ने प्रतिभाग किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here