मंदिर के पुजारी से सोने के जेवरात ठगी करने वाले शातिर ईरानी गैंग के दो सदस्य पुलिस ने किया गिरफ्तार लाखों का माल बरामद

0
837

पुलिस के द्वारा हिंदी मैगजीन के मीडिया प्रभारी नरेंद्र कुमार राठौर देहरादून उत्तराखंड

*थाना नेहरू कॉलोनी*

*मंदिर के पुजारी से सोने के जेवरात ठगी करने वाले शातिर ईरानी गैंग के दो सदस्य गिरफ्तार, लाखों का माल बरामद*

दिनांक 31/01/19 को वादी पंडित सुनील कुमार दीक्षित पुत्र स्वर्गीय आदित्य प्रसाद दीक्षित निवासी नकरौंदा पोस्ट नकरौंदा हाल मंदिर पुजारी, सनातन धर्म मंदिर नेहरू कॉलोनी द्वारा थाना नेहरू कॉलोनी पर मुकदमा दर्ज कराया गया कि उक्त दिनांक को दोपहर के समय एक अनजान आदमी मेरे पास आया और बोला की आज दोपहर 3:00 बजे मेरी माता जी का ऑपरेशन होना है, उनके स्वास्थ्य लाभ के लिए मैं ₹ 20000/- का गुप्त दान करना चाहता हूं, आप इस धनराशि को किसी महिला के सोने के आभूषण में स्पर्श करवा दें ताकि माताजी का ऑपरेशन सफल हो। उपरोक्त घटनाक्रम के बाद उन लोगो द्वारा मुझे सम्मोहित कर दिया, जिसके कारण मैंने अपनी पुत्री के आभूषण लाकर उसके हाथ में रख दिए एवं उक्त व्यक्ति द्वारा गुप्त दान का लालच देकर मेरे हाथ में दूसरी पोटली पकड़ा दी गयी। बाद में देखा तो उसमें जेवर नहीं थे। उक्त घटना के आधार पर थाना नेहरू कॉलोनी पर मुकदमा दर्ज किया गया।
घटना की गंभीरता को देखते हुए उक्त घटना के खुलासे के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया जनपद देहरादून द्वारा घटना के अनावरण के लिए निर्देश दिए गए, जिस पर पुलिस अधीक्षक नगर महोदय द्वारा अपने पर्यवेक्षण में घटना के खुलासे के लिए क्षेत्राधिकारी डालनवाला के पर्यवेक्षण में थाना नेहरू कॉलोनी पर थानाध्यक्ष नेहरू कॉलोनी के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। घटना के खुलासे करने वाली टीम द्वारा घटना स्थल का निरीक्षण करते हुए कार्रवाई की गई एवं घटनास्थल के आसपास के लोगों से पूछताछ की गई। गठित टीम द्वारा घटनास्थल से सीसीटीवी फुटेज कलेक्ट किए गए, सीसीटीवी फुटेज में घटना करने वाले अभियुक्त दिखाई दिए एवं उसके बाद पुलिस टीम द्वारा अभियुक्तों के भागने वाले रास्ते के सभी सीसीटीवी फुटेज प्राप्त करते हुए उक्त व्यक्तियों के वाहन व भागने के रास्ते की जानकारी की गई। पुलिस टीम को उक्त अभियुक्तों की सीसीटीवी फुटेज बंजारावाला चांचक तक प्राप्त हुई, जिस पर पुलिस टीम द्वारा चांचक, बंजारावाला क्षेत्र में मुखबिर सक्रिय किये गए। घटनास्थल के आसपास के प्राप्त सीसीटीवी फुटेज को गैर राज्य, गैर जनपद भेजा गया एवं घटना करने के पैटर्न से उक्त घटना को किसी ईरानी गैंग द्वारा किया जाना पता चला। इस पर उक्त घटना की सीसीटीवी फुटेज, जो प्रसारित की गई थी, से सूचना प्राप्त हुई कि उस फुटेज में दिख रहा व्यक्ति जयपुर का रहने वाला है, जो इरानी गैंग का शातिर अपराधी है।

वरिष्ठ अधिकारियों से अनुमति प्राप्त कर उप निरीक्षक राकेश शाह के नेतृत्व में एक टीम दिनांक 10 फरवरी को जयपुर रवाना हुई एवं टीम द्वारा जयपुर क्षेत्र में संदिग्ध व्यक्तियों की धरपकड़ के प्रयास किए गए। इसी क्रम में टीम को सूचना प्राप्त हुई कि संदिग्ध व्यक्ति, जो सीसीटीवी में दिखाई दे रहा है, वह जयपुर किशनगढ़ क्षेत्र में रह रहा है। पुलिस टीम द्वारा दिनांक 13 फरवरी 2019 को अभियुक्त अली हुसैन पुत्र नूर मोहम्मद को जयपुर से पकड़ा गया, जिससे मौके पर वादी से ठगी गई तीन अंगूठियां बरामद हुई एवं कुछ जेवरात को बेचने से जो पैसे मिले, उनमें से कुल ₹ 50000/- बरामद हुए।

पूछताछ में अभियुक्त द्वारा बताया कि देहरादून में सनातन धर्म मंदिर में पुजारी से की गई घटना को उसने एवं उसके साथी सैयद कादर पुत्र हुजूर अली निवासी नांगल केशव नगर मूल पता महाराष्ट्र बसआवल द्वारा अंजाम दिया गया। अभियुक्त को गिरफ्तार कर पुलिस टीम आज प्रातः देहरादून पहुंची है।

अभियुक्त से थाने पर विस्तृत पूछताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया कि
अली हसन एवं उसका साथी सैयद कादिर दिनांक 30 तारीख को देहरादून आए, जहां उनका तीसरा साथी, जो देहरादून में ही जोमैटो फूड डिलीवरी में काम करता है एवं ईरानी है, के किराए के घर पर रुके, जिसे उन्होंने घटना करने के संबंध में बताया।
अभियुक्त गणों का देहरादून का स्थानीय साथी सलमान अली पुत्र युसूफ अली निवासी लेसवाडा थाना देवबंद सहारनपुर, जो इरानी है, देहरादून में किराए के कमरे पर रह रहा था, जिसने अभियुक्त गणों को घटना करने के लिए मोटरसाइकिल एवं हेलमेट उपलब्ध कराएं।
अभियुक्त गण 31 तारीख को प्रातः घटना करने के लिए निकले जिन्होंने नेहरू कॉलोनी सनातन धर्म मंदिर में पुजारी के साथ घटना की एवं पुजारी से गहने आदि लालच देकर ठग लिए। घटना करने के उपरांत दोनों अभियुक्त गण अपने सह अभियुक्त साथी सलमान अली के कमरे पर गए, उस दिन वहीं पर रुके। अभियुक्त गणों ने घटना के करने के एवज में बाइक आदि उपलब्ध कराने एवं कमरे पर रुकने के बदले सलमान अली को पैसे दिए। अगली प्रातः 1 फरवरी 2019 को दोनों अभियुक्त गण बस में बैठ कर जयपुर चले गए। अभियुक्त गणों ने बताया कि पुजारी से एक चैन, दो जेंट्स अंगूठी, दो महिला अंगूठी, 3 झुमके मिले थे, जिनमें से कुछ जेवरात बेच दिए थे। जेवरात सैयद कादिर द्वारा बेचे गए थे, जिसने अली हुसैन को ₹ 50000/- दिए थे, जो अली हुसैन से बरामद किए गए हैं। शेष पैसे एवं जेवरात सैयद कादिर के पास हैं, जो अभी इस घटना में वांछित चल रहा है। अभियुक्त गणों ने जिस समय घटना करी उस समय कैप पहनी हुई थी। अभियुक्त अली हुसैन से की गई पूछताछ के आधार पर पुलिस टीम तुरंत आज दिनांक 14/02/19 को तीसरे अभियुक्त सलमान अली के किराए के घर पर दबिश दी गई, जहां से उसको गिरफ्तार किया गया एवं जिस मोटरसाइकिल से अभियुक्त गणों द्वारा घटना को अंजाम दिया गया था, उसको भी कब्जे में लिया गया एवं घटना करने समय जो हेलमेट पहना हुआ था, उस हेलमेट को भी कब्जे में लिया गया। अभियुक्त गणों ने सलमान अली को पैसे दिए थे, जिनमें से दो हजार ₹ सलमान अली से बरामद हुए।

*गिरफ्तार अभियुक्त गण*

1- अली हुसैन पुत्र नूर मोहम्मद निवासी नांगल जैसा बोहरा केशव नगर, थाना करधनी, जिला जयपुर राजस्थान, उम्र 25 वर्ष ( जयपुर से गिरफ्तार)

2- सलमान अली पुत्र स्वर्गीय युसूफ अली निवासी लेस वाड़ा, तहसील मंडी, थाना देवबंद, सहारनपुर, उम्र 22 वर्ष (जिसे चांदचक से गिरफ्तार किया)

*वांछित अभियुक्त*

1.सैयद कादिर पुत्र हुजूर अली निवासी नांगल जैसा बोहरा केशव नगर लखारा थाना करधनी, जिला जयपुर, मूलनिवासी बससावल, महाराष्ट्र, उम्र 25 वर्ष

*बरामदगी का विवरण*

1- अभियुक्त अली हसन से कुल ₹ 50000/- नगद, सोने की 03 अंगूठियां बरामद।

*अभियुक्त सलमान से*

घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल बरामद UP11BH6478 तथा सलमान के हिस्से में आए पैसों में से ₹2000/- नगदी बरामद

अभियुक्त गण इरानी गैंग से तालुकात रखते हैं एवं इरानी हैं। अभियुक्त गणों की पूछताछ में यह बात पता चली है कि अभियुक्त गण सम्मोहन नहीं करते हैं लेकिन जिस व्यक्ति से ठगी करते हैं, उसे ऐसा लालच दे देते हैं एवं कॉन्फिडेंट होकर बात करते हैं, जिससे कि वह लालच में आकर उन्हें अपने जेवरात दे देता है।

*आपराधिक इतिहास*

1- मुकदमा अपराध संख्या 28/19 धारा420,406,411,120b,ipc

अभियुक्त गण दतावी मध्य प्रदेश से भी जेल गए थे एवं अन्य राज्यों में भी अभियुक्त गणों के विरुद्ध आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं, जिस संबंध में अन्य राज्यों से अपराधिक इतिहास प्राप्त किया जा रहा है।

घटना के सफल अनावरण पर श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की गई। वादी द्वारा भी पुलिस टीम का आभार व्यक्त किया गया तथा आम जनता द्वारा पुलिस टीम की सराहना की गई है।

घटना के सफल अनावरण में *कांस्टेबल 653 दीप प्रकाश एवं कांस्टेबल 917 विजय* की अहम भूमिका रही, जिन्होंने लगातार 10 दिनों तक सीसीटीवी फुटेज कलेक्ट किया एवं घटना करने के बाद अभियुक्त गणों के फरार होने वाले रूट को कलेक्ट किया, जिससे घटना का सफल अनावरण हो सका है।

*पुलिस टीम*

1- श्रीमती जया बलूनी, क्षेत्राधिकारी डालनवाला
2- श्री दिलबर सिंह नेगी, थानाध्यक्ष नेहरू कॉलोनी
3- वरिष्ठ उप निरीक्षक राकेश शाह, थाना नेहरू कॉलोनी
4- उप निरीक्षक सुनील पवार, चौकी प्रभारी नेहरू कॉलोनी
5- उप निरीक्षक मानवेंद्र गुसाई
6- कांस्टेबल विजय
7- कांस्टेबल प्रकाश
8- कांस्टेबल गंभीर
9- कांस्टेबल सुपर दास
10- कांस्टेबल हितेश
11- कॉन्स्टेबल मनमोहन
12- कांस्टेबल प्रमोद, एसओजी (तकनीकी सहायता)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here