राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय बिरमऊ मैं पिछले 10 वर्षों से एलोपैथिक डॉक्टर और फार्मासिस्ट नहीं है ग्रामीणों का गुस्सा बहुत ज्यादा है

0
1131

उत्तराखंड राज्य के जिला देहरादून के जनजातीय क्षेत्र जौनसार बावर के ग्राम। बीरमौऊ स्थित राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय में पिछले 10 वर्षों से एलोपैथिक डॉक्टर एवं एलोपैथिक फार्मासिस्ट और वार्ड बॉय का ना होना स्वास्थ्य विभाग उत्तराखंड की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह खड़े हो रहे हैं बताते चलें कि आज पुलिस के द्वारा पत्रिका एवं पुलिस ऑनलाइन न्यूज़ की मीडिया टीम जब गांव में पहुंची तो वहां का नजारा देखकर दंग रह गई कि यहां पर तैनात एलोपैथिक डॉक्टर और फार्मेसिस्ट एवं वार्ड बॉय 10 सालों से अटैचमेंट में चल रहे हैं अटैचमेंट समाप्त होने के उपरांत भी कोई इस पहाड़ी क्षेत्र में चढ़ने को तैयार नहीं है ग्रामीणों का कहना है कि यहां पर तैनात डॉक्टर आरके दीक्षित सैलरी तो यहां के चिकित्सालय के नाम से ले रहे हैं और और अटैचमेंट कालसी में करवाया हुआ है जहां पर पहले से ही स्टाफ पूरा है और जब यहां पर तैनात आयुर्वेदिक डॉक्टर पारुल अरोड़ा से पूछा गया तो उनका कहना है कि मैं पिछले 11 साल से यहां पर हो 1 साल को छोड़कर कोई एलोपैथिक डॉक्टर या फार्मेसिस्ट यहां पर नहीं है जिससे हमें भी बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है लेकिन फिर भी इमरजेंसी में एलोपैथिक ट्रीटमेंट जो हमारे बस में है उसको देते हैं लेकिन इंजेक्शन ड्रिप बगैरा हम नहीं दे सकते छोटे-छोटे एलोपैथिक चिकित्सा से संबंधित इलाज के लिए भी ग्रामीणों को कालसी साइया विकास नगर की दौड़ लगानी पड़ती है यहां की ग्राम पंचायत के प्रधान का कहना है कि कई बार लिखित शिकायत करने के बाद भी इस प्रकरण पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया ना ही कोई कार्यवाही की गई जिससे कि यह साबित होता है कि स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली भी शक के दायरे में है विभाग की भी मिली जुली भगत है और यहां पर उपस्थित गांव के गणमान्य व्यक्तियों दिनेश तोमर अतर सिंह तोमर आदि का कहना है 10 साल से यहां पर कोई एलोपैथिक चिकित्सक एलोपैथिक फार्मासिस्ट वार्ड बॉय नहीं है जो सैलरी यहां के नाम से ले रहे हैं और अपनी सेवाएं अटैचमेंट करवा कर और जगह दे रहे हैं हमने बहुत बार लिखित मैं भी डॉक्टर सीएमओ तक को लिखा लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं है और पुलिस के द्वारा पत्रिका के संवाददाता द्वारा डॉक्टर CMO को फोन भी लगाया गया लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला।
यह दुर्दशा यह दुर्दशा जिला देहरादून के उस गांव की है जहां वर्तमान में कोस्ट गार्ड के डायरेक्टर जर्नल राजेंद्र सिंह तोमर विलोम करते हैं और वर्तमान कांग्रेस अध्यक्ष श्री प्रीतम सिंह जी की ससुराल है।
पुलिस के द्वारा हिंदी मैग्जीन के मीडिया प्रभारी नरेंद्र कुमार राठौर व सुरेन्द्र दत्त जोशी व ईलम सिहं व गजमफर खान विकास नगर देहरादून उत्तराखंड।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here