सीजन शुरू होते ही जाम की समस्या ने पर्यटकों को किया परेशान।

0
40

रिपोर्टर सुमित कंसल मसूरी

सीजन शुरू होते ही जाम की समस्या ने पर्यटकों को किया परेशान।

मसूरी। सीजन के शुरू होते ही जाम की समस्या एक बार फिर सामने आने से पर्यटकों सहित स्थानीय लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने से जगह जगह जाम लग गया व पर्यटकों को घंटो परेशान होना पड़ा।
वीक एंड व होली का अवकाश होने के कारण पर्यटन नगरी मसूरी में पर्यटकों के बड़ी संख्या में आने पर पूरे शहर में जाम की स्थिति पैदा हो गई। सबसे अधिक परेशानी लंढौर क्षेत्र में मलिंगार से गुरूद्वारा चौक, घंटाघर, शहीद भगत सिंह चौक, मालरोड, लाइब्रेरी, मोतीलाल नेहरू मार्ग, लाइब्रेरी किंक्रेग मार्ग, कैम्पटी मार्ग आदि में जगह जगह जाम लगने से पर्यटकों को घंटो जाम में फंसे रहने पर मजबूर होना पड़ा। जिसके कारण पर्यटकों को परेशानी झेलनी पड़ी वहीं पुलिस के जाम खुलवाने में पसीने छूट गये। जाम लगने से स्थानीय लोगों को भी खासी परेशानी उठानी पड़ी व मसूरी में एक बार फिर पार्किंग न होने की समस्या सामने आ गयी।

हालांकि किंक्रेग पर मल्टी लेबल पार्किग बन गयी है लेकिन अभी तक लोक निर्माण विभाग व पर्यटन विभाग ने पार्किंग का ठेका नहीं किया जिस कारण पार्किंग बनने के दो माह बाद भी खाली पड़ी है व लोगों को जाम से जूझने पर मजबूर होना पड़ रहा है। इस संबंध में होटल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राम कुमार गोयल ने कहा कि मसूरी में पार्किग की समस्या का जब तक समाधान नहीं होता इसी तरह से लोगों को परेशान होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग को इस पर गंभीरता से सोचना चाहिए व मसूरी देहरादून मार्ग का थोड़ा और चौड़करण किया जाना चाहिए व बीच में डिवाइड लगाने चाहिए ताकि पर्यटक आराम से आ सके। उन्होंने कहाकि दिल्ली से देहरादून तक रोड के चार लेन बनने से पर्यटकों को बहुत सुविधा मिल गयी है और अब बहुत कम समय में दिल्ली से देहरादून आदमी पहुंच जाता है लेकिन देहरादून से मसूरी आने में उन्हें कई घंटे लग जाते हैं। वहीं उन्होंने कहा कि पार्किग बनने के बाद भी उसका उपयोग न होने से भी जाम लग रहा है। इस पर पर्यटन विभाग व स्थानीय प्रशासन को गंभीरता से लेना चाहिए। क्यो कि अभी मेन सीजन आना है अगर तब तक इस समस्या का समाधान नहीं होता तो परेशानी बढ़ेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here