FeaturedUttarakhand News

डंपर दुर्घटना में मृत चालक के परिजनों को मुआवजे के लिए लोनिवि के खिलाफ प्रदर्शन।

डंपर दुर्घटना में मृत चालक के परिजनों को मुआवजे के लिए लोनिवि के खिलाफ प्रदर्शन।

मसूरी। गत दिवस मालरोड के सौदर्यीकरण के तहत डंपर दुर्घटना में मृत चालक रघुवीर सिंह रावत निवासी घंडियाला का उप जिला चिकित्सालय के मोचर्री में पोस्ट मार्टम करने के बाद ग्रामीणों ने लोक निर्माण विभाग व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी के साथ मुआवजे की मांग की व मुआवजा न देने पर रोड जाम करने की चेतावनी दी।

जिस पर करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद मृतक के परिजनों को पांच लाख नकद व 15लाख रूपये किश्तों में देने के लिखित पत्र के बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए गांव ले जाया गया व वहां से यमुना नदी में अंतिम संस्कार किया गया।
मालरोड पर डंपर के पलटने से हुई दुर्घटना में चालक की मौत हो गई थी जिसका मोर्चरी में पोस्ट मार्टम किया गया। लेकिन ग्रामीणों ने मृतक के परिवार को मुआवजा देने की मांग की व शव के साथ एनएच 707ए पर प्रदर्शन किया व चेतावनी दी कि यदि मृतक को मुआवजा न दिया गया व उसके परिवार से एक को नौकरी न दी गई तो हाइवे जाम कर देंगे। जिस पर प्रशासन, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी व पुलिस मौके पर पहुंची व ग्रामीणों के साथ वार्ता की। कई बार वार्ता में व्यवधान आया व तीन घंटे की लंबी बातचीत के बाद अंत में मृतक के परिजनों को पांच लाख नकद देने, व 15 लाख किश्तों में देने के साथ की उनकी पत्नी को ठेका प्रथा पर नौकरी देने की लिखित सहमति देने के बाद मृतक के शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। सहमति पत्र में यह भी लिखा गया है कि इस राशि में पांच लाख अन्य विभाग के सहयोग से दिया जायेगा। सहमति पत्र पर लोनिवि के सहायक अभियंता राजेंद्र पाल के हस्ताक्षर करवाये गये। इस संबंध में एसडीएम नंदन कुमार ने बताया कि ग्रामीणों व लोक निर्माण विभाग के बीच सहमति बनी है कि पांच लाख फौरी तौर पर दिए जायेगे व बाकी 15 लाख किश्तों पर देने पर सहमति बनी है। वहीं आश्रित के परिजनों में एक को ठेका प्रथा पर लोक निर्माण विभाग रखेगा व आगे सरकारी नौकरी की संभावनाओं पर भी विचार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सहमति पत्र लिखित में लोकनिर्माण विभाग के एक्शन व सहायक अभियंता के हस्ताक्षर से एसडीएम व सीओ के सामने बना है जिसमें विभाग की जिम्मेदारी होगी। इस मौके पर लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता प्रवीण कुश ने बताया कि ग्रामीणों व ठेकेदार के बीच सहमति बनी है जिसमें ठेकेदार ने पांच लाख का नकद मुआवजा दिया है व बाकी 15 लाख पांच किश्तों में दिए जायेंगे वहीं एक को ठेकेदार नौकरी देगा व इसके अलावा इंश्योरेंस का पैसा अलग मिलेगा। इसमें विभाग का कुछ नहीं है साइड पर अगर कोई दुर्घटना होती है तो उसके लिए ठेकेदार की जिम्मेदारी बनती है और इसके लिए ठेकेदार की सहमति ली गई है। इस मौके पर कोतवाल शंकर सिंह बिष्ट, नायत तहसीलदार सहित पूर्व पालिकाध्यक्ष मनमोहन ंिसंह मल्ल, पालिका सभासद जसबीर कौर, सरिता पंवार, कुलदीप रौंछेला, दर्शन रावत, ग्राम प्रधान बंग्लों कांडी सुंदर सिंह रावत, घंडियाला के प्रधान श्रीपाल रावत, जिला पंचायत सदस्य कविता रौंछेला, हुकम रावत, रितेश रावत, सहित बड़ी संख्या में गा्रमीण व जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button