FeaturedUttarakhand News

इंटरनेशनल हयूमन राइट्स कॉन्सिल (यूके) ने प्रदेश मे हो रही घटनाओ को लेकर हो रही की चिंता व्यक्त।

इंटरनेशनल हयूमन राइट्स कॉन्सिल ने उत्तराखंड के सौहार्द के बिगड़ने पर जताई चिंता।
देहरादून, उत्तराँचल प्रेस क्लब मे इंटरनेशनल हयूमीन राइट कॉन्सिल ने प्रेस वार्ता प्रदेश के बिगड़ते सौहार्द पर चिंता जताई, कॉन्सिल यू के बोर्ड अध्यक्ष रनवीर सिंह चौधरी,महासचिव देवेंद्र सिंह, प्रदेश प्रभारी महताब हुसैन जैदी ने प्रेस वार्ता करते हुए कहा कि उत्तराखंड मे साम्प्रदायिकता व धार्मिकता को हथियार बनाकर पुरोला मे एक ही समुदाय को निशाना बनाकर मार-पीट कर दुकान,मकान खाली करने को लेकर उत्पीड़न किया जा रहा है। जिस पर सरकार व कानून व्यवस्था देल नजर आ रही है। बड़े पैमाने पर उन्माद फैलाया जा रहा है। जिससे शांति व्यवस्था भंग हो रही है। आपसी सौहार्द भंग हो रहा है। जबकि देश व प्रदेश मे हर नागरिक का बराबर का अधिकार है, जिसको सुरक्षित और सुनिचित करना सरकार की जिम्मेदारी है। तथा सभी पछो को मिलकर शांति व सदभाव से मिलकर इस मुद्दे को हल करना चाहिए। इसी के साथ सरकार को अपना दायित्व को तत्परता से निभाना चाहिए। कॉन्सिल के महासचिव देवेंद्र सिंह ने कहा की हरिद्वार मे एक लड़के को शाजिस के तहत मार दिया गया जबकि एक टेक्टर के आगे उसकी बाईक जिस तरह से गिराकर दिखाया गया है कि उसकी मौत दुर्घटना से हुई है। वो सरासर गलत है। क्योंकि मृतक के सर के पीछे चोट है और एक पैर उसका कटा हुआ है। जबकि उस मृतक की बाईक कहीं से भी नहीं टूटी है। कॉन्सिल के सदस्यों ने सरकार से सीबीआई जाँच कराने की मांग की है। जबकि मृतक के अंतिम संस्कार के दौरान आये कुछ रिश्तेदारों के खिलाफ उल्टा पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दिया है। उन्होंने मांग की है की सीबीआई जाँच के बाद पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके।
प्रदेश मे पहले भी ऐसी कई घटनाये हो चुकी हैँ। जैसे अंकिता भंडारी हत्याकांड, जौनपुर मे 9 साल कई बच्ची के साथ बलात्कार,चकरोता मे दलित लड़के की कुर्सी पर बैठकर खाना खाते हुए पीट पीटकर हत्या, अल्मोड़ा के जगदीश की हत्या आदि कई कैस हुए, जिस पर सभी अपराधियों को कहीं ना कहीं सरकार का सरंक्षण प्राप्त होने के कारण कोई ठोस कार्यवाही होती नजर नहीं आती।
इंटरनेशनल हयूमन राइट्स कॉन्सिल यू के बोर्ड ने पत्रकारों के माध्यम से सरकार से अपील करना चाहते हैँ कि प्रदेश मे आये दिन धर्म के नाम पर साम्प्रदायिक, जातिगत तोर पर हत्या, बलात्कार, मारपीट और अन्य असामाजिक,अपराधों पर तुरंत लगाम लगाने के लिए ठोस कार्यनीति बनाएं जाये। जिससे की प्रदेश की जनता प्यार, प्रेम से एक साथ रह सके।इस प्रेस वार्ता के दौरान और भी सदस्य मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button