उत्तराखंड के मसूरी नगर पालिका द्वारा शहर की सफाई व्यवस्था को सफल बनाने व कचरा चुनने वालों को पहचान के तहत दिए गए ऑक्यूपेशनल कार्ड

0
48

अंतरराष्ट्रीय कचरा चुनने वाले दिवस को मसूरी मैं गड्डी खाना, 12 कैंची, टिहरी बस स्टैंड से कचरा चुनने वाली महिलाओं ने अपना दिवस उत्सव के साथ मनाया। रीसिटी, क्रियान्वयन पार्टनर स्त्री मुक्ति संगठन द्वारा असंगठित क्षेत्र में कचरा चुनने वाली महिलाओं के साथ विगत वर्षो से काम कर रही है

उन्हें संगठित के क्रम में स्वयं सहायता समूह का निर्माण किया गया है प्रत्येक महिलाओं का हेल्थ चेकअप भी करवाया गया है। रीसिटी के माध्यम से प्रत्येक महिलाओं को स्वास्थ्य, कानून, आहार, विभिन्न विषयों पर अलग-अलग कार्यशाला की जाती है

नगर पालिका परिषद मसूरी एवं हिलदारी के तत्वाधान ऑक्यूपेशन आईडी कार्ड का वितरण वार्ड मेंबर नंदलाल सोनकर द्वारा प्रत्येक कचरा बीनने वाली महिलाओं को दिया गया। ऑक्यूपेशनल आईडी कार्ड जो कि उनकी एक पहचान है।

आने वाले समय में कार्ड के माध्यम से सामाजिक सुरक्षा एवं नेशनल अर्बन लाइवलीहुड मिशन एवं नेशनल सफाई कर्मचारी फाइनेंस एंड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन के तहत बच्चों की शिक्षा, एवं तकनीकी प्रशिक्षण, हॉस्टल आदि की फ्री व्यवस्था की जाएंगी। ऑक्यूपेशनल आईडी कार्ड 200 लोगों को दिया जाएगा  यह कार्ड नगर पालिका परिषद अध्यक्ष अनुज गुप्ता द्वारा प्रत्येक पर्यावरण मित्र को भी प्रदान किया जाएगा।
शहर की सफाई व्यवस्था को मजबूत रखने में कचरा चुनने वालों का अहम रोल है आज उत्तराखंड की पहली मसूरी नगर पालिका द्वारा कचरा चुनने वालों को पहचान पत्र के तहत ऑक्यूपेशनल कार्ड दिया गया है।
कार्यक्रम को सफल बनाने के क्रम में किन संस्था, रुबीना इंस्टीट्यूट से रुबीना अंजुमन एवं हिल्दारी से किरण बबीता  लीला रोहित दीपक मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here