सरकार से की मांग वृद्धावस्था पेंशन की गरीबों को उनका हक मिले: जन संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी

0
39

विकासनगर में जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा वर्तमान में वृद्ध जनों हेतु वृद्धावस्था पेंशन पति पत्नी में से मात्र एक को ही दिए जाने का प्रावधान रखा गया है

जबकि चार-पांच वर्ष पहले तक पति-पत्नी दोनों को पेंशन मिलती थी महत्वपूर्ण तथ्य है कि उक्त मामले में केंद्र सरकार द्वारा पति-पत्नी दोनों को पेंशन दिए जाने का प्रावधान है तथा केंद्रीय अंश के रूप में 60 से 79 वर्क के वृद्धों हेतु ₹200 तथा 80 से ऊपर आयु के गरीब बुजुर्गों हेतु ₹500 का प्रावधान है

लेकिन सरकार गरीबों को इसका लाभ नहीं देना चाहती हैं अगर सरकार 80 वर्ष के ऊपर आयु वर्ग के वृद्धावस्था पेंशन से वंचित वृद्ध जनों को पेंशन के रूप में केंद्रीय अंश ही जारी कर दे तो गरीबों की मुश्किलें काफी हल हो सकती हैं

रघुनाथ नेगी ने कहा राज्य सरकार अगर केंद्र सरकार द्वारा मिलने वाली सहायता ₹500 ही दे दे तो राज्य सरकार पर कोई वित्तीय भार भी नहीं पड़ेगा बड़े शर्म की बात है कि जब विधायकों सांसदों को अपनी पेंशन वेतन भत्ता व सुविधाओं को बढ़ाना होता है तो एक ही झटके में बिल पास हो जाता है

लेकिन गरीबों के समय बजट धन का अभाव हो जाता है उन्होंने कहा कि अधिकांश गरीब दंपत्ति इसी पेंशन के सहारे अपनी गुजर-बसर कर रहे थे लेकिन सरकार को यह ना गवारा गुजरा है जन संघर्ष मोर्चा ने सरकार से मांग की है

कि 80 से ऊपर की आयु के गरीब वृद्ध जनों को कम से कम केंद्रीय अंश ₹500 प्रतिमा पेंशन के रूप में ही जारी कर दें इस पत्रकार वार्ता में उनके साथ अमित जैन व सुशील भारद्वाज मौजूद रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here