देहरादून, बिष्ट गांव में लॉक डाउन में फंसे हुए मजदूरों को अपने गांव जाने के लिए सूखा राशन व जूते चप्पल वितरण करते महाकाल के दीवाने

0
538

देहरादून,आज शनुवार को महाकाल के अध्यक्ष रोशन राणा ने बताया की शहर से 15.किलोमीटर दूरी पर बिष्ट गांव है।वहां पर रहने वाले 45 मजदूर फूलों की खेती का काम कर रहे थे,लेकिन कोरोना महामारी चलते कुछ मजदूर अपने गांव चले गये जबकि कुछ लोक डाउन में यहीं रह गए,जिसके बाद उनके सामने रोजी-रोटी की समस्या पैदा हो जाने के बाद कुछ लोग तो पलायन कर गए लेकिन कुछ मजदूर वहां रह गए थे।योग माया मंदिर के अध्यक्ष मोती दीवान द्वारा महाकाल के दीवानों को पता चला कि बचे हुए 25 मजदूर वह भी जाने की तैयारी कर रहे हैं।तभी योग माया मंदिर और महाकाल के दीवानों ने उन्हें पन्द्रह दिन का राशन और जूते चप्पल समिति की ओर से उपलब्ध कराये महाकाल के दीवाने (सामाजिक संस्था) द्वारा पूर्व में अब तक सैंतालीस दिनो तक लगातार दिन और रात के तीन सौ पैकेट निशुल्क भोजन और सूखे राशन किट और मास्क बांटे गए हैं।और समय-समय पर जगह-जगह सैनिटाइजर का कार्य भी किया गया। है।समिति ने निश्चय किया है।कि अब संस्था के द्वारा सभी धार्मिक स्थल मंदिरों में सेनिटाइजर करनॆ का काम निशुल्क किया जाएगा। इसकी शुरुआत संस्था के अध्यक्ष रोशन राणा ने बतया की श्री गुरु राम राय झंडा साहब जी से शुरू किया गया है।
जो की टपकेशवर मंदिर,पृथ्वीनाथ मंदिर,शिरडी साईं धाम तिलक रोड़ भवन कालिका माता मंदिर,सिन्दुरीया हनुमान मंदिर,काली का मार्ग,कंवली रोड शिव मंदिर,गांधीग्राम शिव मंदिर मैं किया गया।समिति की बैठक में उपस्थित रहे सेवादार मोती दीवान,सुधीर जैन,सेवादार दीपक जेठी,सचिन आनंद,अंकुर जैन,आलोक जैन,हेमराज,अक्षत नगलिया,अनित बेरी,मयंक शर्मा,शिवम् गुप्ता,पुनीत मेहरा,हरीश कुकरेज,हर्ष सुरी,रस्तोगी,नरेंद्र,विशाल,जितेन्द मल्लिक आदि शामिल रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here